पंचायत समिति की बैठक जोरदार हंगामा के साथ सम्पन्न

आर० डी० न्यूज़ नेटवर्क : 02 अगस्त 2022 : करगहर रोहतास। प्रखंड कार्यालय स्थित सभागार भवन में मंगलवार को पंचायत समिति की बैठक आयोजित की गई। जिसकी अध्यक्षता प्रखंड प्रमुख अनीता देवी एवं संचालन कार्यपालक पदाधिकारी सह बीपीआरओ अंकिता कुमारी ने की। बीडीओ की मनमानी के खिलाफ पंचायत समिति सदस्यों ने सदन में जोरदार हंगामा किया। पंचायत समिति सदस्य सुनील चौबे ने सदन में सवाल किया कि पिछली बैठक की संपुष्टि के बारे में सदन को जानकारी दी जाए।

उन्होंने कहा कि प्रखंड कार्यालय में विभिन्न सामान को लगाने एवं मरमति के लिए किसने प्रस्ताव लाया था और कब प्रस्ताव पारित हुआ। इस पर डीपीआरओ ने गत बैठक में पारित प्रस्ताव की जानकारी सदन को उपलब्ध कराई। प्रखंड कार्यालय की मरम्मती प्रस्ताव में लिखा गया था लेकिन यह नहीं लिखा गया है कि यह प्रस्ताव किसने लाया। कई सदस्यों ने कहा कि सदन में इस तरह का न कोई प्रस्ताव लाया गया था और न यह पारित हुआ है। पंचायत समिति सदस्य ने कहा कि पिछली बैठक में कार्यपालक पदाधिकारी बीडीओ धर्मेंद्र कुमार थे। जिन्होंने मनमानी तरीके से काम किया। 14 पंचायत समिति सदस्यों ने इस मामले की जांच कराने का प्रस्ताव पेश किया। सदस्यों ने बीडीओ पर आरोप लगाया कि योजना चयन में बड़े पैमाने पर धांधली की गई है। लेकिन पास नहीं हो सका।

बीपीआरओ ने बताया कि षस्टम वित्त आयोग में 30,96,525 रुपए आए थे तथा 29,31,033 रुपए खर्च भी हो चुके हैं। हालांकि कई मुखिया ने भी बताया कि प्रखंड कार्यालय मरम्मत ई पर गत बैठक में किसी प्रकार की चर्चा नहीं हुई थी। मुखिया संघ के अध्यक्ष अरविंद कुमार सिंह एवं मुखिया अशोक कुमार यादव ने सवाल किया कि बीईओ की मनमानी शिक्षा विभाग में चरम पर है। उन्होंने कहा कि नियोजन समिति को दरकिनार कर बीडीओ वैसे जगह पर शिक्षकों का स्थानांतरण करते हैं जहां शिक्षक अधिक रहते हैं फल स्वरूप शिक्षकों के अभाव के कारण कई विद्यालय बंद होने के कगार पर हैं वह हैं। इसको लेकर मुखिया संघ बीइओ को जबरदस्त घेरा। बीइओ राजकिशोर यादव के जवाब से सदस्य संतुष्ट नहीं हुए।

मुखिया राजू कुमार सिंह ने कहा कि पंचायत समिति की बैठक एक मात्र औपचारिकता बनकर रह गई है। सदस्यों के मान मर्यादा का ख्याल नहीं रखा जा रहा है। अधिकारी मनमानी कर रहे हैं। आशा बहाली को लेकर मुखिया अरविंद कुमार सिंह ने प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी पर मनमानी का आरोप लगाया। कहा कि मुखिया के बिना जानकारी में आशा की बहाली की गई है। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डा अनिल कुमार ने बताया कि आशा बहाली का टारगेट पूरा कर लिया गया है। इस पर सदस्य जोरदार हंगामा करने लगे। उनके जवाब से सदस्य संतुष्ट नहीं हुए। बीआरसी भवन में पदस्थापित पूर्व बीआरपी संजय कुमार शर्मा द्वारा फर्जी सर्टिफिकेट बनाने के मामले में पैसे के लेनदेन में हुए वायरल आडियो का मामला भी सदन में उठा। सदस्यों ने वायरल आडियो की गहन जांच कर कार्रवाई करने की मांग की। बीइओ ने बताया कि जिला शिक्षा पदाधिकारी द्वारा जांच के लिए पत्र आया हुआ है जांच रिपोर्ट जल्द ही वरीय पदाधिकारी को सौंप दी जाएगी।

मौके पर बीडीओ धर्मेंद्र कुमार, राजस्व अधिकारी तान्या कुमारी, थानाध्यक्ष नरोत्तम चंद्र, मुखिया निरंजन चौरसिया, जग नारायण पासवान, गुलबासो पांडेय, रीना कुमारी, मीरा देवी, विभा देवी, साजदा बेगम, रामविलास राम, कामता साह, पंचायत समिति सदस्य अजय कुमार चौधरी, गुंजन कुमार सिंह सहित कई विभागों के अधिकारी वह सदस्य मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !! Copyright Reserved © RD News Network