आर० डी० न्यूज़ नेटवर्क : 31 मई 2022 : कांग्रसे से इस्तीफा दे चुके हार्दिक पटेल ने आज ऐलान कर दिया कि वे 2 जून को भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो जाएंगे। हार्दिक पटेल ने खुद यह जानकारी समाचार एजेंसी एएनआई को दी है। गौरतलब है कि अपनी अनदेखी से नाराज होकर हार्दिक पटेल ने हाल ही में कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद हार्दिक पटेल ने ट्वीट कर कहा था कि आज मैं हिम्मत करके कांग्रेस पार्टी के पद और पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देता हूं। मुझे विश्वास है कि मेरे इस निर्णय का स्वागत मेरा हर साथी और गुजरात की जनता करेगी। मैं मानता हूं कि मेरे इस कदम के बाद मैं भविष्य में गुजरात के लिए सच में सकारात्मक रूप से कार्य कर पाऊँगा।

चिकन सैंडविच के जरिए साधा था निशाना

हार्दिक पटेल ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेतृत्व पर तीखा प्रहार करते हुए अपने पत्र में कहा था कि गुजरात में कांग्रेस के बड़े नेता राज्य के मुद्दों से बहुत दूर हैं। उन्होंने कहा कि मुझे दुख होता है कि मेरे जैसे सैकड़ों कार्यकर्ता अपनी गाड़ी से अपने खर्च पर दिन में 500-600 किलोमीटर दूर जनता के बीच में उनका हालचाल जानने के लिए जाते हैं और लेकिन गुजरात कांग्रेस के कुछ नेता इस बात को लेकर चिंतित रहते हैं कि दिल्ली से आए नेता को चिकन सैंडविच समय पर मिला है कि नहीं। सूत्रों के मुताबिक हार्दिक पटेल ने संकेत दिए हैं कि वे भाजपा ज्वाइन कर सकते हैं लेकिन साफ तौर पर अभी कुछ भी नहीं कहा है।

कांग्रेस पार्टी पर लंबे समय से बना रहे थे दबाव

हार्दिक पटेल गुजरात कांग्रेस में अपनी अवहेलना के नाराज थे और इस बारे में खुलकर कई बार बोल भी चुके थे। कांग्रेस आलाकमान तक भी उन्होंने आवाज पहुंचाने के कोशिश की थी। इसके बावजूद उन्हें गुजरात कांग्रेस की कई अहम बैठकों में बुलाया नहीं जाता था। कांग्रेस के उदयपुर खेमे से दूरी बनाए रखने वाले गुजरात कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष हार्दिक पटेल ने पार्टी पर दबाव बनाना शुरू कर दिया था। हार्दिक की मांग थी कि अगर पाटीदार नेता नरेश पटेल कांग्रेस में शामिल होते हैं तो उनकी नाराजगी दूर हो जाएगी, लेकिन नरेश पटेल के पार्टी में शामिल होने की शर्त पर कांग्रेस में असमंजस की स्थिति बनी हुई है।

सूत्रों के मुताबिक पूर्व केंद्रीय मंत्री भरतसिंह सोलंकी का धड़ा खोदलधाम के मुख्य ट्रस्टी नरेश पटेल के संपर्क में थे और उन्हें कांग्रेस में लाने की पूरी कोशिश कर रहे थे, लेकिन कांग्रेस में अहम पद को लेकर बातचीत सफल नहीं हो पाई थी।

हार्दिक पटेल औ नरेश पटेल का सियासी समीकरण

दरअलल बीते विधानसभा चुनाव में पूर्व मुख्यमंत्री शंकरसिंह वाघेला ने कांग्रेस के सामने उन्हें मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार या चुनाव प्रचार समिति का अध्यक्ष बनाने की शर्त रखी थी, लेकिन कांग्रेस राजी नहीं हुई और अंततः वाघेला ने कांग्रेस छोड़ दी। ऐसे में इन दोनों पदों पर नरेश पटेल की भी नजर थी। हार्दिक पटेल ऐसे में खुद को चुनाव प्रचार समिति का अध्यक्ष बनाकर नरेश पटेल को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाकर पाटीदार वोट बैंक के बीच अपनी पैठ मजबूत करना चाहते थे, लेकिन कांग्रेस इस पर राजी नहीं है। ऐसा माना जाता है कि गुजरात में कांग्रेस का पारंपरिक वोट बैंक ओबीसी, आदिवासी है, इसलिए पाटीदार वोट बैंक को लुभाने के लिए कांग्रेस पार्टी ऐसा जोखिम लेने के लिए तैयार नहीं थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !! Copyright Reserved © RD News Network