आर० डी० न्यूज़ नेटवर्क : 28 मई 2022 : नई दिल्ली। देशभर में छात्रों को ऐसे शिक्षा संस्थानों के प्रति सचेत रहने को कहा गया है जिनकी डिग्री को आवश्यक मान्यता हासिल नहीं है। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की मान्यता के बिना डिग्री प्रदान करने वाले उच्च शिक्षण संस्थानों की डिग्री नौकरी के लिए भी मान्य नहीं होगी। यूजीसी ने इस संबंध में देशभर के छात्रों को सचेत करने के लिए ऐसी सूचना जारी की है। यूजीसी ने दिल्ली के एक उच्च शिक्षण संस्थान ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट आफ पब्लिक एंड फिजिकल हेल्थ साइंस को लेकर भी एक ऐसा नोटिस जारी किया है। यूजीसी ने अपने इस नोटिस में छात्रों से ऐसे स्वयंभू संस्थानों में दाखिला न लेने की सलाह दी है।

यूजीसी के सचिव रजनीश जैन का कहना है कि बिना यूजीसी की मान्यता के यह संस्थान डिग्री पाठ्यक्रम संचालित कर रहा है। ऐसे में इस संस्थान से पास होने के उपरांत छात्रों को दी जाने वाली डिग्री पूरी तरह से अमान्य है। साथ ही यह यूजीसी के नियमों के विरुद्ध भी है।

इसके साथ ही यूजीसी ने देशभर के छात्रों को सचेत करते हुए कहा है कि यूजीसी देश भर में उन संस्थानों पर नजर रखने के साथ ही कार्रवाई करती है जो फर्जी तरीके से डिग्री कोर्स संचालित कर रहे हैं। गौरतलब है कि पूर्व में भी यूजीसी ने इस प्रकार के विषयों को संज्ञान में लिया है। बीते वर्ष ही यूजीसी ने लगभग 24 ऐसे उच्च शिक्षण संस्थानों की पहचान करते हुए उनके द्वारा दी जा रही डिग्री को अमान्य एवं फर्जी घोषित किया था। साथ ही इस विषय में देशभर के छात्रों को भी सूचित किया गया था। यूजीसी का कहना है कि गलत जानकारी देकर गुमराह करने वाले ऐसे शिक्षण संस्थानों में दाखिला लेने से बचना चाहिए।

यूजीसी के मुताबिक छात्रों को उच्च शिक्षण संस्थानों में दाखिला लेने से पहले उसकी भलीभांति जांच कर लेनी चाहिए। छात्रों एवं अभिभावकों को यह सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि संबंधित शिक्षण संस्थान यूजीसी से मान्यता प्राप्त है या नहीं। इन शिक्षण संस्थानों की पहचान यूजीसी की बेवसाइट पर जाकर की जा सकती है।

गौरतलब है कि हाल ही में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग यानी यूजीसी और भारत में तकनीकी शिक्षा को बढ़ावा देने वाले एआईसीटीई ने पाकिस्तान के शिक्षण संस्थानों को लेकर भी चेतावनी जारी की थी। भारतीय छात्रों के लिए जारी किए गए इस संयुक्त परामर्श में कहा गया था कि भारतीय छात्र पाकिस्तान के किसी भी कॉलेज या शैक्षणिक संस्थान में प्रवेश न लें। यूजीसी के मुताबिक पाकिस्तान से पढ़ कर आने वाले छात्र भारत में नौकरी व उच्च शिक्षा प्राप्त करने के पात्र नहीं होंगे।

यूजीसी और एआईसीटीई ने कहा कि भारतीय छात्र उच्च शिक्षा के लिए पाकिस्तान न जाएं। पाकिस्तान जाकर तकनीकी, शिक्षा उच्च शिक्षा या अन्य किसी भी प्रकार का कोर्स करने वाला भारतीय छात्र भारत में नौकरी अथवा आगे की पढ़ाई के लिए उच्च शिक्षण संस्थानों में दाखिला नहीं ले सकेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !! Copyright Reserved © RD News Network